जिस्म की प्यास compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit seccaraholic.website
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: जिस्म की प्यास

Unread post by raj.. » 12 Nov 2014 04:51

शन्नो ने किसी तरह चेतन के कच्छे के अंदर हाथ घुसा लिया और

अब मस्ती में चेतन के तन्नाए हुए लंड को दबाने लगी.... चेतन का जुनून अब बेकाबू होने लगा था वो शन्नो के

ब्लाउस को ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगा ताकि वो एक दो हुक खोल सके... शन्नो ने बड़ी आसानी से अपने उल्टा हाथ से

ब्लाउस के नीचे के दो हुक्स को खोल दिया...ब्लाउस के हुक्स खोलते ही चेतन के हाथ शन्नो की ब्रा के अंदर घुस

गये और उन तरबूज़ो पे चींटी मारने लगे... शन्नो दर्द और मस्ती के मारे पागल हुई जा रही थी...

अब हाल ऐसा आ गया था कि बस के रुकने के वक़्त भी दोनो के हाथ चले जा रहे थे....

फिर शन्नो के कानो में आवाज़ आई " कहीं बाहर उतरते है... कितना लेगी तू??"

शन्नो एक दम से ठंडी पड़ गयी.... मगर उस बंदे के हाथ नहीं रुके... शन्नो ने घबराकर अपनी गर्दन

घुमाई तो देखा उसके पीछे एक 45-50 साल का आदमी खड़ा था और चेतन का कुच्छ पता नहीं था....

शन्नो के चेहरे का रंग उतर गया और उसने झट से अपना हाथ उस आदमी के लंड से हटाया और उस आदमी के गंदे हाथो को अपने जिस्म से हटा दिया.... घबराती हुई शन्नो भीड़ को चीरती हुई आगे बढ़ती रही और सबसे आगे जाके खड़ी हो गई...... उसने पीछे मूड के देखा तो उस आदमी और चेतन का कोई पता नहीं था...

उसका जब स्टॉप आया तो वो झिझकते हुए उतर गयी और पीछे वाले दरवाज़े से चेतन को उतरते देख उसकी बेचैनि दूर हो गयी.... चेतन उसकी तरफ गया और उसके कंधे पे हाथ डालकर सड़क पर चलने लगा...

शन्नो के दिमाग़ में केयी सारे सवाल घूम रहे थे जिसको पुछ्ने में उसको काफ़ी झिझक हो रही थी....

उसी ओर चेतन बिल्कुल बिंदास होकर सड़क पर चल रहा था.... चेतन ने एक ऑटो को रोका घर जाने के लिए और इस बारी जब शन्नो ऑटो के अंदर बैठने लगी तो उसने उस ऑटो वाले के सामने ही शन्नो की गान्डपर हल्के चॅटा मारा जिसको

ऑटो वाले ने आँखें फाड़ कर देखा...



ऑटो में चेतन का हाथ अभी भी शन्नो के कंधे पे था जैसे कि वो ये जताना चाहता था कि वो उसकी मा नहीं बल्कि

उसकी कोई प्रॉपर्टी है..... चेतन ने बिना ऑटो वाले का ध्यान करें बोला " बस में क्या चल रहा था??"

शन्नो ने चेतन की आँखों में देखा और फिर अपनी नज़रे नीचे करदी... फिर वो आहिस्ते से बोली "मुझे लगा था कि तुम हो'

चेतन बोला " झूठ मत बोलो.. देख रहा था कितने मज़े से आगे पीछे हो रहे थे तुम्हारे हाथ"

ये सुनके शन्नो ने चेतन को इशारे में चुप होने के लिए कहा.... चेतन ने शन्नो का उल्टा हाथ अपनी जीन्स के उपर रख दिया और उसे उपर नीचे करने को कहा उसके साथ ही चेतन ने शन्नो के पल्लू पे लगी पिन को खोल दिया जिसका शन्नो को एहसास नहीं हुआ.... शन्नो अपनी नज़रे झुकाए चेतन की जीन्स के नीचे जागते हुए लंड को सहलाए जा रही और चेतन राजा की तरह ऑटो पे बैठा रहा...

ऑटो वाले ने ऑटो को चेतन शन्नो के घर की गली के बाहर रोक दिया क्यूंकी अंदर ले जाने में दिक्कत आती....

दोनो मा बेटे उसमें उतरे और चेतन ने पूछा "कितना हुआ"

ऑटो वाले ने चेतन को देख के कहा कि "30 रुपय हो गये है..." ये कहकर उसने नज़र शन्नो की तरफ घुमाई जोकि ज़मीन

की तरफ नज़रे झुकाए हुई थी...

चेतन के चेहरे पे हल्की सी मुस्कान आई और वो बोला "हमारे पास पैसे तो नहीं है मगर किसी और तरीके से पैसे भर दे तो.."

ऑटो वाले ने चेतन को देख कर बोला "क्या मतलब??"

चेतन ने शन्नो की तरफ नज़र घुमाई और बड़ी चालाकी से उसकी सारी का पल्लू उसके कंधे से गिरा दिया....

शन्नो ने पल्लू संभालने की कोशिश करी चेतन ने उसका हाथ पकड़ लिया.... चेतन बोला "अगर चाहो तो पैसे के बदले तुम

इन बड़े मोटे मम्मो को अभी देख सकते हो "

जितनी हैरानी ये सुनके शन्नो को हुई उतनी हैरानी उस ऑटो वाले को भी हुई.... उसे समझ नहीं आया कि वो क्या बोले

बस उसने सिर हिलाते हुए हां कह दिया.... चेतन ने शन्नो के हाथ को आज़ाद किया मगर अपना हाथ उसके नितंब पे

ले गया और प्यार से सहलाने लग गया.... वो चाहता था कि शन्नो अपने आप ही अपनी नुमाइश करें और वैसे ही हुआ... शन्नो ने जल्दी से अपने ब्लाउस के नीचे के हुक्स को खोला और अपनी सफेद ब्रा को उपर करके खुल्ले में उस ऑटो वाले को अपने स्तनो को दिखा दिया.... उन तरबूज़ो को देख कर उस ऑटो वाले का गला सूख गया.... ऑटो वाले की ज़ुबान बड़ी मुश्क़िलो से चली और उसने कहा 'क्या मैं एक बारी इन्हे च्छू सकता हूँ"

चेतन ने शन्नो को वापस अपनी ब्रा उठाने को कहा और ऑटो वाले का काँपता हुआ हाथ शन्नो के सीधे स्तन को

दबाने लगा.... आख़िर में उसकी चुचि को छुता हुआ ऑटो वाले ने अपना हाथ शन्नो के मम्मे से हटा दिया और

शुक्रिया कहता हुआ वहाँ से चला गया.... शन्नो ने झट से अपने ब्लाउस के बटन लगाए और पल्लू ठीक करा.....

ये सब करके शन्नो के अंदर एक आग जागने लगी थी... सुबह से जीतने भी लोगो ने उसकी खूबसूरती को देखा था या फिर उसके हसीन बदन को छुआ था उसका हर एक एहसास उसके बदन में ज्वाला बनके जाग रहा था जिस बात का एहसास चेतन को भी था...

घर पहुचने के बाद शन्नो ने जल्दी से अपने कपड़े उतारे और चेतन के सामने नंगी खड़ी होकर अपनी चूत

चुदवाने की इच्छा जताई मगर चेतन ने उसके मुँह पर उसको मना कर दिया और टीवी देखने लगा...

चेतन के मना करने पर शन्नो नहीं मानी और सोफे पे बैठके चेतन की गर्दन को चूमने लगी और अपना हाथ

चेतन की छाती पर चलाने लगी मगर चेतन ने उसे धक्का दे दिया और जाके अपने कमरे को लॉक करके बैठ गया....

भोपाल में शाम को डॉली के मोबाइल पर राज का कॉल आने लगा... डॉली अभी भी राज से गुस्सा होने

का नाटक कर रही थी और इसलिए हर बारी राज का फोन काटने लगी... मगर फिर राज ने मैसेज किया

"ठीक है बात नहीं करनी मुझे कोई और मिल गया ना... बाइ" ये पढ़के डॉली जल्दी से घर के बाहर गयी

और राज को फोन लगाया... राज ने काफ़ी रूठने का नाटक किया मगर फिर डॉली ने उसे मना ही लिया...

राज ने बोला "मैं कुच्छ नहीं जानता कल रात हम दोनो को एक पार्टी में जाना है"

डॉली ने पूछा "कौनसी पार्टी"

राज ने बोला "हैं एक हाउस पार्टी मेरे दोस्त के बर्तडे की तो हमे वहाँ जाना है.."

डॉली बोली "पागल हो गये हो पापा के रहते हुए मैं कैसे निकल सकती हूँ घर के बाहर??"

राज गुस्से में बोला "वो मैं नहीं जानता.. सब लड़के अपनी गर्ल फ्रेंड्स के साथ आ रहे है और मैं अकेला जाउन्गा

नहीं तो तुझे तो आना ही पड़ेगा"

इससे पहले डॉली राज को समझाती राज ने फोन काट दिया और फिर राज ने मैसेज करके उसको कहा

"मैं 9 बजे तक लेने आउन्गा तैयार रहना और नहीं आई तो मैं बात नहीं करूँगा

डॉली के सिर पे अब ये नयी परेशानी आ गयी थी... वो राज का दिल नहीं दुखानी चाहती और पापा से

क्या बहाना मारेगी ये उसको सूझ नहीं रहा था... रात को खाना खाने के बाद डॉली ने नारायण से

झिझकते हुए कहा "पापा मेरी एक सहेली है नाज़िया यही पे रहती है तो उसका निक़ाह होने जा रहा है कुच्छ

दिन में तो उसने अपनी सारी सहेलिओ को कल अपने घर पे बुलाया है एक पार्टी के लिए... और उसने मुझे

स्पेशली बोला है कि मैं आउ और सुबह ही घर वापस जाउ" नारायण ने बिना सोचे समझे झट से डॉली

को हां कह दिया.. शायद डॉली के उपर नारायण का भरोसा बोल रहा था और वो चाहता भी था कि उसके

बच्चे बाहर निकले और भोपाल में और अच्छे दोस्त बने... डॉली इतना खुश हो गयी और उसने

नारायण को गले लगा लिया मगर वो राज को और तरसना चाहती थी इसलिए उसे हां नहीं कहा...

क्रमशः…………………..


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: जिस्म की प्यास

Unread post by raj.. » 06 Dec 2014 16:39

जिस्म की प्यास--29

गतान्क से आगे……………………………………

अगले दिन चेतन ने अपनी मम्मी को खुद कह दिया कि अब भोपाल का टिकेट कार्वालो जिससे सुनके शन्नो के दिल में बहुत दर्द हुआ... अब उसका उसकी परिवारिक ज़िंदगी में लौटना असंभव था और वो यहीं चेतन के साथ अपनी ज़िंदगी

गुज़ारना चाहती थी... इतने दिनो में नारायण ने शन्नो से बात तक भी नहीं करी थी जिससे शन्नो को सॉफ

एहसास होने लगा था कि नारायण को उसकी कोई ज़रूरत नहीं है और वो अपनी ज़िंदगी में बहुत ही ज़्यादा खुश है....

शन्नो अब उसके पास वापस नही जाना चाहती थी बल्कि अपने बेटे की बाँहों में रहना चाहती थी....

सुबह से दोपहर शन्नो इसी बात को लेकर चिंतित रही... उसे समझ नही आया था कि चेतन ने उसे ये क्यूँ कहा??

क्या वो मुझसे बोर हो चुका है

पूरी दोपहर शन्नो अपने ही ख़यालो में खो चुकी थी... वो अपने टाय्लेट में गयी और उसने

दरवाज़ा बंद कर दिया... अपनी नाइटी के अंदर हाथ घुसाकर उसने अपनी चूत में एक उंगली डाली और

वो पानी बिन मछली की तरह तड़प उठी.... आहिस्ते आहिस्ते अंदर बाहर अंदर बाहर शन्नो की उंगली उसकी

चूत में होती रही... उसकी नज़र वॉशिंग मशीन पे पड़ी तो उसने झट से उसे खोला और वहाँ पड़े चेतन के कच्छे को देख कर उसकी आँखें बड़ी हो गयी... उस अंडरवेर को उसने उठाके देखा तो उसपे अभी

उसके बेटे के वीर्य के धब्बे मौजूद थे..... शन्नो वॉशिंग मशीन से टिक के ज़मीन पे बैठ गयी...

अपनी टाँगें चौड़ी करके उसने अपनी कच्छि को उतारा और अपनी चूत से खेलने लगी....

चेतन के हरे अंडरवेर को अपनी नाक से सूंघ सूंघ कर वो और भी ज़्यादा तड़प गयी थी....

उसकी चूत का पानी फर्श पे बहने लगा था मगर उसकी उंगली रुकने का नाम ही नहीं ले रही थी...

जब चेतन के वीर्य की सुगंध उसकी नाक में भर गयी तो अपनी ज़बान से वो उन धब्बो को चाटने लगी...

उसका जिस्म पूरी तरह मचल उठा था... देखते देखते उसकी चूत ने वहीं पानी छोड़ दिया और उसकी

उंगली पे लगा पानी उसने अपने होंठो पे लगाके के चाट लिया.... अपने आपको खुश करने के बाद भी वो

अभी खुश नहीं थी... हार मानकर वो टाय्लेट से निकली और बिस्तर पे बैठके अपनी हालत पे आँसू टपकाने लगी...

कुच्छ देर तक सोने के बाद शन्नो जब अपने बिस्तर से उठी तो वो पूरे घर में चेतन को आवाज़

देकर ढूँढती रही मगर वहाँ कोई नहीं मिला.... शन्नो को लगा अगर वो थोड़ी देर घर के सन्नाटे से बाहर

रहेगी तो शायद उसका मन हल्का हो जाएगा.... वो सफेद सलवार कुर्ता पहेन के घर से निकल गयी और

चाबी फुट्मॅट के नीचे छुपाके रख दी जहाँ अकसर वो चाबी रखा करते थे... घर से थोड़ी ही दूर

एक पार्क था शन्नो उधर जाके बैठ गयी और जो भी ग़लत काम उसने करा है वो उसे याद करने लगी...

उस काले सच की शुरुआत होने पर ही अगर वो सम्भल जाती तो शायद ऐसा नहीं होता उसके साथ....

जब हल्का अंधेरा छाने लगा आसमान पे तब शन्नो वापस घर जाने लगी.....

जब वो घर पहुच गई तो फुट्मॅट के नीचे अभी भी चाबी थी और एक लंबी साँस लेकर उसने दरवाज़ा

खोला और उसे बंद करके अपने कमरे की तरफ बढ़ी.... कमरे के अंदर जाते हुए एक आवाज़ आने पर

उसके कदम रुक गये... वो दबे पाओ चेतन के कमरे की तरफ बढ़ी और दीवार से सतकर कर खड़ी हो गयी....

दरवाज़ा खुला हुआ था और चेतन के साथ उसे एक लड़की की आवाज़ आ रही थी और वो आवाज़ उसी की

बेहन आकांक्षा की थी.... शन्नो के आँखो में आँसू झलक उठे जब उसे एहसास हुआ कि उसने चेतन के लिए

इतना सब किया और उसे ऐसा सिला मिल रहा है....

शन्नो गुस्सी में कमरे में गयी जिसे देखकर आकांक्षा और चेतन एक दम से चौक गये...

शन्नो ने आकांक्षा के बाल पकड़े और उसके गाल पर चाँते बरसाने लगी... आकांक्षा भी पिछे नहीं हटी

और उसने अपनी बड़ी बेहन का कुर्ता फाड़ दिया और उसके बदन पे घूसे मारने लगी....

चेतन को समझ नहीं आया वो क्या करे मगर उसने दोनो को एक दूसरे से अलग करने की कोशिश करी....

आकांक्षा ने चेतन को धक्का दिया और उसका सिर दीवार पे जाके लगा और ज़मीन पे गिर गया....

चेतन को ज़मीन पे गिरा देख आकांक्षा ने शन्नो को धक्का दे के अपने आप से दूर करा और चेतन को

देखने लग गयी और तभी उसके सिर के पीछे एक भयंकर दर्द महसूस हुआ... उसने अपने हाथ से उसे

महसूस किया तो सिर से खून टपकने लगा था... आकांक्षा ने पीछे मूड कर देखा तो शन्नो के हाथ में

एक विकेट थी.... शन्नो के सामने उसके बेटे और उसकी बहन की मौत हो गयी थी... वो वही खड़ी रही चुप चाप..

कुच्छ समय के लिए समय रुक सा गया था... फिर धीरे धीरे चलती हुई शन्नो किचन की तरफ गयी..

. एक ड्रॉयर खोलके उसने एक छुरि निकाली और 7-8 बारी अपने जिस्म पे वार कर दिया.... उसके बदन में से खून ज़मीन पे बहने लगा और उसकी आँखें वही बंद हो गयी...

तीनो की लाश उसी कमरे में पड़ी रही और इस बात का पूरे मौहल्ले में किसी को भी अंदाज़ा नहीं था...

(आकांक्षा देहरादून नहीं गयी थी.. वो अभी भी दिल्ली में थी बस चेतन से दूर रहने के लिए उसने चेतन से मिलने से इनकार कर दिया था.... आज सुबह ही चेतन उसके दिल्ली वाले फ्लॅट में गया और उसको अपने से चुदवाने के लिए मजबूर कर दिया... तभी आकांक्षा चेतन के साथ उसके घर आई और ये अनहोनी घटी)

उधर भोपाल में डॉली का समय रात का इंतजार करने में ही निकल गया और जैसी ही शाम आई वो

नहा के तैयार हो गई उसने सलवार कुरती पहेन लिया और अपने बाल अच्छे से बना लिए...

उसने एक बॅग लिया और उसमें एक ड्रेस रख लिया ताकि वो पार्टी में जाने के लिए वो पहेनले और घरवालो

को पता ना चले.. जब डॉली बाहर जाने लगी तो नारायण ने उसे बॅग के बारे में पूछा तो डॉली ने कह दिया

"ये रात को सोने के लिए कपड़े है"

जब डॉली बाहर निकली तो राज गाड़ी लेके आया हुआ था... डॉली जाके उसके साथ बैठ गयी..

राज ने देख कर ही उसको कहा "क्या यह पहनके पार्टी में आओगी?? डॉली बोली "अर्रे नहीं नहीं बॅग

में लाई हूँ ना कपड़े.. ये तो घरवालो के सामने दिखावा करने के लिए" फिर राज ने पूछा

"अच्छा तो फिर क्या पहनोगी..??" डॉली ने बोला "जीन्स और टॉप लाई हूँ" राज ने वही गाड़ी रोकी और बोला

"यार कोई ड्रेस ले आती ज़्यादा तर ड्रेस में ही होते है यार.." आज नज़ाने राज इतने नखरे क्यूँ कर रहा था..

शायद पहली बारी उसके दोस्त उसकी गर्ल फ्रेंड को देखेंगे तो उनको ये ना लगे कि बहनजी है डॉली के दिमाग़ में

ये चल रहा था.... फिर राज बोला चलो मैं तुम्हे अपनी दोस्त के घर ले जा रहा हूँ तो वहीं चेंज कर लेना...

कुच्छ दूर जाके राज ने गाड़ी रोकी और वो अपनी दोस्त कश्मीरा के घर लेके गया डॉली को...

हाई हेलो करने के बाद जब डॉली कश्मीरा के टाय्लेट में कपड़े बदलने जा ही रही थी तभी राज ने कश्मीरा

से कहा "यार ऐसा हो सकता कि तू अपना कोई ड्रेस देदे डॉली को पहनने के लिए... मैं तुझे कल वापस कर्दुन्गा" कश्मीरा ने तुरंत हां कह दिया और डॉली को एक ड्रेस दिया जोकि उपर सफेद था नीचे से काला...

राज का दिल रखने के लिए डॉली उस ड्रेस को पहेन ने के लिए राज़ी हो गई.. कश्मीरा कुच्छ ज़्यादा पतली सी

थी तो जब डॉली ने वो ड्रेस पहना तो उसको वो काफ़ी टाइट आ रहा था... पीछे हाथ बढ़ा कर वो अपने

ड्रेस की चैन भी बंद नहीं कर पा रही थी... वो ड्रेस उसकी जाँघो को आधा ही धक पा रही थी...

काफ़ी देर चैन बंद करने की कोशिश करने के बाद उसने राज को अंदर बुलाया चैन चढ़ाने के लिए तो

राज को डॉली की ब्लॅक ब्रा के हुक दिखे... मज़ाक मज़ाक में उसने उन्हे खोल दिया...

डॉली को जैसे ही इस बात का एहसास हुआ तो वो गुस्सा करने लगी.... डॉली का मूड ना खराब हो इसलिए राज

ने वापस हुक लगा दिए और ड्रेस की चैन भी खीच दी.. डॉली अपने कपड़े बॅग में रखके वापस गाड़ी में ले गयी और फिर दोनो फार्म हाउस जाने लगे जोकि भोपाल के किनारो में था...

घर में ललिता अकेले बिस्तर पे बैठी बहुत ज़्यादा बोर हो रही थी... उसे समझ नहीं आ रहा था कि वो क्या करे...

उसे एक बात से चिढ़ मच रही थी कि उसकी बहन डॉली को इतनी आसानी से रात में बाहर जाने के लिए हां

कह दी गयी जबकि वो झूठ बोलके अपने बॉय फ्रेंड के साथ गयी है.... ललिता को पूरा यकीन था कि आज उसकी बेहन

चुदाई का मज़ा लेगी वो अभी अपने बॉय फ्रेंड के साथ.... उसके दिमाग़ में डॉली एक दम नंगी हुई बिस्तर पे राज के

लंड से खेलती हुई दिख रही थी.... उसे अपनी बहन से जलन मचने लगी थी.... ललिता इन सब बातोको अपने दिमाग़ से

निकालने के लिए सोने लग गयी तो उसे लगा कि एक आखरी बारी टाय्लेट हो आती हूँ कि कहीं रात में ना उठना पड़े....

ललिता बिना कुच्छ आवाज़ करें डॉली के कमरे की ओर बढ़ी क्यूंकी उसके विजय मामा वहाँ सो रहे थे और

वो उन्हे जगाना नहीं चाहती थी... जब उसने कमरे का दरवाज़ा खोला तो एक कम रोशनी वाला बल्ब जला हुआ था और

उसके मामा कमरे में नहीं थे.... ललिता को लगा कि वो टाय्लेट में होंगे तो वो वही खड़ी इंतजार करने लगी...

फिर उसने वहाँ लॅपटॉप पड़ा हुआ देखा जिसका मुँह दीवार की तरफ था... उसके दिल में देखने की चाह जागी कि

विजय मामा इतनी देर रात लॅपटॉप पे कर क्या रहे होंगे तो वो तुर्रत भागती हुई बिस्तर पे लॅपटॉप की तरफ गयी और

उसने वहाँ देखा की उधर एक फोल्डर खुला हुआ है जिसमे ढेर सारी पॉर्न डाली हुई है....

उनमें से एक पॉज़ हुई भी रखी थी... ललिता जल्दी से कमरे में से निकली ताकि उसके मामा को उसपे शक़ ना हो...

अपने कमरे में पहूचकर उसके चेहरे पर शरारती मुस्कान आ गयी और उसके दिमाग़ में गंदा ख़याल

आया विजय मामा के अंदर जिस्म की प्यास पैदा करने का..

कुच्छ देर बाद वो एक दम अंजान बनकर फिर से कमरे में गयी और विजय अभी लॅपटॉप ऑन किए हुए बिस्तर पे बैठा था... दरवाज़ा खुलने पर वो ज़रा सा भी घबराया नहीं और ललिता को देख कर हल्का सा मुस्कुराया....

ललिता चुप चाप टाय्लेट के अंदर गयी और कुच्छ देर वक़्त गुज़ारने के बाद उसने अपनी पैंटी को उतारकर हॅंडल

पे टाँग दिया ताकि जब विजय मामा टाय्लेट जाएँगे तो उसे देख कर मचल उठेंगे...

अपना काम करकर ललिता अंजान बनकर वहाँ से चली गयी और अपने दिमाग़ में गंदे गंदे ख़याल सोच कर

अपने आपको संतुष्ट करने लगी मगर ऐसा कुच्छ भी नहीं हुआ और कुच्छ देर के बाद वो सो भी गयी...

उधर गाड़ी में डॉली अपने ड्रेस को बारे में सोच रही थी जोकि उसने पहेन रखा था...

उस ड्रेस की अच्छी बात ये थी कि उसके स्ट्रॅप्स थोड़े बड़े थे जिनमे ब्रा का स्ट्रॅप आराम से छुप रहा था और

ड्रेस भारी भी तो ब्रा और पैंटी की लाइन्स नहीं बन रही थी...घर के बाहर काफ़ी लाइट्स लगी हुई थी और जैसी ही घर

के पास पहुच रहे थे तो गानो की भी आवाज़ आ राई थी.. राज ने डॉली को बाल खोलने को कहा और डॉली

ने उसकी बात मान ली... जब दोनो अंदर घुसे तो म्यूज़िक और तेज़ हो गया और राज डॉली को लेके अपने दोस्तो के पास लेगया... राज ने डॉली को सबसे मिलवाया...

एक लड़के का नाम निकेश था, दूसरे का रवि और जिसका बर्थ'डे था वो सरदार था उसका नाम सुखजिंदर था सब

उसे सुखी बुलाते थे... फिर बारी बारी डॉली बाकी लोगो से भी मिली और फिर राज और डॉली डॅन्स करने लगे...

कयि लड़किया बीच बीच में राज के पास आई मगर डॉली ने उन सबको भगा दिया और राज के बिल्कुल पास

खड़ी होकर नाचने लगी.... कुच्छ घंटे बाद डॉली और राज दोनो थक कर बैठ गये...

दोनो को बैठा देख सुखी उनके पास गया राज को उसने बियर पकड़ाई और डॉली को कोक देदि...

डॉली को देख कर सुखी ने बोला "मैं कोक लाया हूँ मेरे ख़याल मे आप ड्रिंक नहीं करती होंगी"

डॉली को ये जानके खुशी हुई और उसने कोक पीनी शुरू की... जब डॉली का ग्लास ख़तम हो गया तो सुखी ने डॉली

को उसके साथ नाचने के लिए कहा उसका बर्थ'डे था तो डॉली ने भी इनकार नही किया और दोनो नाचने लग गये...

राज अकेला बैठा हुआ था और डॉली को अपने दोस्त के साथ नाचता हुए देख रहा था... डॉली को पता था कि

उसके बॉय फ्रेंड की नज़रे उसपर ही थी और उसे थोड़ा जलाने के लिए डॉली ने सुखी के कंधो पे हाथ रख दिए और सुखी ने भी डॉली की कमर पे हाथ रख दिया... दोनो बड़ा झूम के नाचने लग गये...

राज के पास रवि और निकेश आए और डॉली की तारीफ करने लगे... राज चुपचाप बियर पीते हुए दोनो की

बात सुनता रहा... फिर निकेश बोला "मुझे इसको चोद्ने का मन" राज निकेश को देखने लग गया...

रवि भी बोला " वैसे मन तो मेरा भी कर रहा है... ये हमारे प्रिन्सिपल की बेटी है ना...

क्या माल लग रही है इस ड्रेस में कसम से लोग हज़ारो रुपय दे देंगे इसके साथ एक रात गुज़ारने के लिए...

तूने तो काई बारी काम कर दिया होगा ज़रा हमे भी तो दर्शन करा दे??" राज ने कुच्छ नही बोला और अपनी बियर

पीने में लग गया... निकेश बोला "साले बता ना बहुत गंदा मन कर रहा है.. देख कैसे सुखी के साथ नाच

रही है और सुखी भी उसकी कमर पे अपना हाथ चला रहा है.." राज दोनो ने को मना कर दिया...

और वहाँ से चला गया... काफ़ी देर नाचने के बाद डॉली डॅन्स फ्लोर से दूर जाके बैठ गयी और निकेश और

रवि उसके पास जाके बैठ गये.. राज जब वॉशरूम गया तो सुखी ने उसको बोला

"साले तूने निकेश और रवि की बात सुनी?? नाटक क्यूँ कर रहा है.. मेरा बर्तडे है यार...

तेरेको भी तो मैने कितनी लड़कियों को चोद्ने का मौका दिया है और उनमें से एक तो मेरी कज़िन थी"

राज रुक के बोला "अबे बॉय फ्रेंड हूँ उसका नाटक तो करूँगा ही दिखावा करने के लिए." ये बोलके दोनो हँसने लग गये..

फिर राज बोला "इंतज़ाम है भी कुच्छ या बलात्कार करने वाले हो मेरी गर्ल फ्रेंड का??"

सुखी बोला "अर्रे टेन्षन ना ले.. अभी उसकी कोक में तो टॅब्लेट्स डालके पिलाई थी ताकि उसको कुच्छ याद ना रहे और अब

बस तू उसको वोड्का पिला ताकि हमारी भाभी झूम पड़े"

क्रमशः…………………..


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: जिस्म की प्यास

Unread post by raj.. » 06 Dec 2014 16:44

जिस्म की प्यास--30

गतान्क से आगे……………………………………

राज जब डॉली के पास गया तो कोक में वोड्का मिलाके लाया और डॉली को पीने के लिए बोला...

धीरे धीरे करके डॉली ने वो ग्लास पी लिया और उसके बाद निकेश रवि सुखी उसे डॅन्स करने के लिए ले गये....

बारी बारी तीनो उसके साथ नाचने लग गये... नशा डॉली के दिमाग़ में चढ़ रहा था और रवि निकेश सुखी

तीनो बारी बारी उसका फ़ायदा उठा रहे थे... कोई उसकी गर्दन को छुता तो कोई कमर को और सुखी तो एक दम

आगे बढ़ कर उसकी गान्ड को छुने लग गया... राज बियर पीता हुआ इन सबको देख कर मज़े ले रहा...

फिर कुच्छ 3 बजे पार्टी ख़तम होने लगी और एक के बाद के सब चले गये... पूरे फार्म हाउस में राज, निकेश, रवि, सुखी और एक नशे में डूबी हुई डॉली रह गये...

फार्म हाउस की बाहर की लाइट्स बंद करदी और अंदर डिम करदी और फिर चारो घेरा बनाके डॉली के साथ नाचने लगे...

अभी भी डॉली के इन चारो का हाथ अपना बदन से हटाने की कोशिश कर रही थी तो राज ने एक ग्लास में

वोड्का डाली और डॉली को पीने पर मजबूर कर दिया... धीरे धीरे डॉली ने वोड्का का ग्लास ख़तम कर

दिया और वो नशे में धुत हो गयी... नशे में झूमि हुई डॉली कभी सुखी के उपर गिरती तो कभी सचिन के उपर.....

नाचते नाचते डॉली की ब्रा का हुक खुल गया और उसका स्ट्रॅप कंधे से हटके नीचे गिरने लगा..

डॉली ने उसको उठाने की कोशिश करी मगर वो फिर से गिरे जा रहा था ..

सुखी ने इस बात का फ़ायदा उठाकर डॉली को बोला "डॉली तुम्हारी ब्रा का हुक शायद खुल गया है.. मैं लगा दू??"

सब चौक गये जब डॉली ने सुखी को ये करने की इजाज़त देदि... सबको पता चल गया था कि अब प्रिन्सिपल की बेटी

पूरी तरह काबू में आ गयी है... सुखी ने डॉली की ड्रेस की चैन पीछे से खोली और उसकी नंगी पीठ

को देख कर उसका लंड एक दम खड़ा हो गया... उसी दौरान सचिन ने म्यूज़िक ऑफ कर दिया और पूरे फार्महाउस पे शांति फेल गयी.. सुखी डॉली की कोमल पीठ पे अपनी उंगलिया चलाने लगा... "क्या कर रहे हो सुखी? हुक लगाओ ना' डॉली ने

नशे में कहा मगर सुखी ने कुच्छ जवाब नहीं दिया..

डॉली को नशे में देख कर बारी बारी सबने अपनी टी-शर्ट को उतार दिया जिसे देख कर डॉली ने पूछा

"अर्रे तुम लोग अपने कपड़े क्यूँ उतार रहे हो" सचिन बोला "वो हम खेल खेल रहे है.. तुम खेलोगी??"

डॉली अभी भी झूमते हुए बोली "पर मैने तो टी-शर्ट पहनी ही नहीं है" तो रवि बोला " पर ड्रेस तो पहनी है" राज ने भी कहा "अब ऐसे अच्छा थोड़ी ना होता है कि सिर्फ़ एक ही इंसान ने कपड़े पहेन रखे हो.. चलो डॉली तुम भी अपना ड्रेस उतारो"

सारे लड़के डॉली डॉली डॉली डॉली करके चिल्लाने लगे

डॉली बोली "एक शर्त पर... तुम सब अपनी आँखें बंद करो और 5 तक गिनने के बाद खोलो"

सबने शर्त मंज़ूर करली और आँखें बंद करके गिनना शुरू हुआ... 1..........2.........3....

हर एक सेकेंड बोलने पर 4रो लड़को का लंड मचले जा रहा था.... 4.......5. जैसी आँख खोली तो डॉली वहाँ

से भाग गयी.... डॉली को कुच्छ होश नहीं था कि वो क्या कर रही है.. चारो लड़के उसके पैरो

की आवाज़ सुनके उसका पीछा करने लगे... फिर दरवाज़ा खुलने के आवाज़ आई सब उसी दरवाज़े के पास पहुच गये....

डॉली की काली रंग की पैंटी उसके घुटनो के नीचे हुई पड़ी थी... उसके काले ड्रेस के स्ट्रॅप्स कंधो से नीचे

गिरे हुए थे..... ड्रेस नीचे से कमर तक उठा हुआ डॉली की जाँघो को दर्शाता हुआ...

डॉली की चूत में से पानी निकलते हुए पॉट पे लगता हुआ आवाज़ करने लगा और सब लड़को की आँखें बड़ी हो गयी...

डॉली काफ़ी शर्मिंदा हो गयी जब 3 अंजान लड़को ने और उसके प्रेमी ने उसे सूसू करते हुए पॉट पे बैठा पाया....

राज डॉली के पास गया और उसकी जाँघो को नीचे से पकड़ा और डॉली को हवा में उठा दिया....

अब उसकी चूत सुखी, रवि और सचिन के ठीक सामने पानी फर्श पे बरसा रही थी....

डॉली धीमी आवाज़ में राज को उसे छोड़ने के लिए बोलती रही पर राज ने एक नहीं सुनी...

चूत का पानी ख़तम होते ही डॉली को 2 सेकेंड के लिए राहत मिली और उसके बाद उसने अपने आपको पानी से भरे हुए

बाथ टब में पाया.... चारो लड़के पागल कुत्तो की तरह हँसने लगे जब डॉली का बदन उस ठंडे पानी से

गीला हो गया था.... डॉली को राज की इस हरकत पे बहुत गुस्सा आया और वो हिम्मत करके उठने लगी मगर फिर

से टब में गिर गयी... चारो लड़को ने डॉली को हाथ और पाव से पकड़ा और हवा में उठाते हुए

उसे बाथरूम के बाहर लेके बिस्तर पे ले गये..... उसके कपड़े को खीच तान कर उतार दिए और एक दम नंगा खड़ा कर दिया....

पूरे वक़्त डॉली ने चाहा कि वो अपने आपको इन लोगो से बचा सके मगर उसके जिस्म में लगबघ

सारी ताक़त जा चुकी थी.... अगले ही पल उसे बिस्तर पे धक्का दे दिया और 8 हाथ उसके जिस्म को नौचने लगे...

डॉली जब एक हाथ हटाने की कोशिश करती तो उसके मम्मो पर ज़ोर से चॅटा लगाया जाता...

हर एक चॅटा एक मीठा दर्द लाता.... एक एक करके चारो लड़के पूरे नंगे हो गये... सबका लंड डॉली की

आँखो के सामने तना हुआ खड़ा था... उसी दौरान राज ने एक सफेद पाउडर अपने हाथ में लिया और

उसे डॉली की चूत में जल्दी से मल दिया..... कुच्छ ही सेकेंड में डॉली की चूत हद से ज़्यादा पानी छोड़ने लगी....

कमरे की धीमी रोशनी में डॉली की ज़िंदगी अंधकार से भर गयी थी.... सुखी और और रवि ने बारी बारी

डॉली की चूत को चाटना शुरू करा और सचिन और राज डॉली के मम्मो को चाटने और चूसने लगे...

डॉली का जिस्म अब उसकी नहीं सुन रहा था और हवस के अंदर पूरी तरह से डूब चुका था....

डॉली को फर्श पे घुटने के बल बिठाया और बारी बारी उसको लंड चूसने को दिया गया.... सबका लंड लोहे की तरह

मज़बूत पतले और लंबे थे और डॉली के मुँह की वजह से गीले और गरम हुए पड़े थे....

डॉली के मम्मो पर अभी भी हाथ चले जा रहे थे और उसकी चूत फर्श पे पानी बहाए जा रही थी....

पाउडर की वजह से डॉली की चूत में खुजली होने लगी और अपने सीधे हाथ की उंगलिओ से वो अपनी चूत की खुजली

मिटाने की कोशिश करने लगी... जितना वो खुजाति उतनी खुजली बढ़ती और उतनी ही गीली हो जाती उसकी चूत...

सुखी से अब और बर्दाश्त नहीं हो रहा था और वो ज़ोर से बोला "यारो अब बहुत हुआ मुझे इसकी चूत चोद्नि है...

" रवि बोला "बारी बारी चोदेन्गे क्या??" राज बोला "सालो एक एक करके चोदोगे ना जब तक तुम्हारा लंड भी मर

जाएगा और साली भी बेहोश हो जाएगी..." ये कहकर ही राज डॉली को अपनी गोद में उठाकर बिस्तर पे लेट गया और

डॉली की गान्ड में धीरे से अपना लंड घुसाने लगा... जैसी ही लंड घुस गया राज ने बोला "सचिन आजा तू रंडी की चूत चोद"

सचिन जल्दी से बिस्तर पे कुदा और अपना लंड डॉली की गीली चूत में घुसके चोद्ने लगा....

सुखी और रवि भी रुके और डॉली के मम्मो को चाटने लगा और डॉली के मुँह में भी लंड डाल दिए.....

डॉली की सिसकियाँ और उन चारो लड़को की खुशी पूरे कमरे मे फेल गयी थी.... राज डॉली की गान्ड मारते रहा

और साथ में कभी सुखी कभी सचिन तो कभी रवि उसकी गर्ल फ्रेंड की चूत चोद्ते गये.... जब राज थक गया तो

सबने डॉली को कुतिया की तरह बिठाया और फिर उसके सारे छेद को अपने लंड से भर दिया....

सुखी खड़ा होके उसकी गान्ड मार रहा था रवि उसके नीचे लेटके उसकी चूत मार रहा और राज का लंड

डॉली के मुँह में था.... राज ने अपना मोबाइल फोन निकाला और डॉली की चुदाई की फिल्म बनाने लग गया....

उसने पूरा ख़याल रखा कि किसी लड़के की शक़्ल ना आए बस डॉली बुर्री तरह 3 लंड से चुद्ति हुई नज़र आई....

उस पॉवडर का चूत पे लगने की वजह से चुदाई का नशा डॉली के सिर चढ़ गया था....

वो एक रंडी की तरह अपना जिस्म हिला रही और सुखी जब उसके नितंब पे चॅटा लगाता वो और भी ज़्यादा मचल उठती...

सुखी ना चाहते हुए भी एक दम से झाड़ गया और सारा वीर्य डॉली की गान्ड में डाल दिया...

राज ने सुखी को कॅमरा दिया और वो जाके अब डॉली की गान्ड मारने लगा.... देखते ही देखते राज भी झाड़ गया

और सारा वीर्य डॉली के डॉली के मुँह में डाल दिया.... अब सचिन डॉली के मुँह की तरफ बढ़ा और राज

डॉली की चूत चोद्ने लगा और बाकी दो लड़के डॉली के मम्मो को दबाने लगे.... इतनी चुदाई की वजह डॉली

से रुका नहीं गया और उसका पानी वही गंगा की तरह बहने लगा और चारो लड़के हँसने लगे....

राज फिर भी नहीं रुका और वापस अपना लंड डॉली की चूत में डाल दिया....

कुच्छ देर बाद सब के सब झाड़ गये और डॉली के जिस्म पे बस वीर्य ही नज़र आ रहा था....

चुदाई के बाद सुखी, रवि और सचिन फिर टाय्लेट जाने लगे मूतने के लिए और राज ने कहा

"सालो जब टाय्लेट तुम्हारे पास चलके आएगा तो तुम्हे जाने की क्या ज़रूरत है.... डॉली को कुतिया की तरह चलते

हुए राज रवि के पास लेगया और उसके बाल खीचके मुँह खुलवाया और रवि ने अपना सारा पेशाब डॉली

के मुँह में डाल दिया... रवि ने उसकी गान्ड पे एक लात मारी और डॉली सचिन के पास घुटनो के बल गयी....

ऐसी करते करते सबने डॉली के मुँह में पेशाब करा और उसको वहीं फर्श पे छोड़ कर सोने चले गये...

सुबह के कुच्छ 7 बजे डॉली की आँख खुली.. अपने आपको फर्श पे लेता देख उसको अजीब सा लगा..

बड़ी मुश्किल से फर्श पे बैठी क्यूंकी कल रात जो उसके बदन ने सहा था उसका दर्द अभी भी था...

जैसी ही बैठी उसके उपर जो चादर थी वो नीचे गिर गयी... अपने आप को नंगा पाकर वो घबरा गयी..

उसको पता चला कि अभी वो फार्म हाउस में ही है... वो अपने दिमाग़ पे ज़ोर डालके वो ध्यान देने लगी कि कल रात

को क्या हुआ उसके साथ... एक समय के लिए उसको लगा शायद उसने और राज ने रात में सेक्स करा होगा मगर

फिर भी वो बिना कपड़ो के फर्श पे क्या कर रही है ये सवाल उसे खाए जा रहा था......

दीवार का सहारा लेकर वो खड़ी होने लगी तो उसे अपने जिस्म से अजीब सी बदबू आ रही थी.. उसने अपने जिस्म पर

चादर लपेटी और राज को ढूँढने लगी... हर एक कमरे में जाके वो देखने लगी मगर राज का कोई पता नहीं था...

जैसी ही आखरी कमरे की तरफ बढ़ी तो उसने देखा राज बिस्तर पे सोया पड़ा है... मगर उस कमरे में वो अकेला

नहीं है बल्कि उसके तीन दोस्त भी सोए पड़े है ... उनकी शक़ल को देख कर उसको कल रात का भयानक हादसा याद आने लगा....

इन चारो ने कल रात मेरे साथ ज़बरदस्ती करी थी ये ख़याल डॉली के दिमाग़ में बैठ गया...

जब उसने गौर से देखा तो उसकी पैंटी और ब्रा बिस्तर के पास पड़ी हुई थी और उसका वेहेम सच बनके उसके सामने आ गया... डॉली एक पल भी नहीं रुकी उस कमरे में और अपनी ब्रा और पैंटी उठाके ड्रॉयिंग रूम की तरफ चली गयी...

उसकी आँखों में आँसू बहते हुए चेहरे से टपकते हुए ज़मीन पर गिरने लगे...

डॉली को उन्न चारो पे उतना गुस्सा नहीं आया जितना कि अपने आपसे नफ़रत होने लगी कि कैसे उसने इतना सब होने दिया..

उसके सामने एक ग्लास रखा था जिसपे लिपस्टिक का निशान था ये देख कर उसका अपने आप से भरोसा उठ गया क्यूंकी

उस ग्लास में बहुत ज़्यादा शराब की बदबू आ रही थी...उसको आपने आपसे घिन होने लगी....

उसके आँसू रुकने का नाम ही नहीं ले रहे... उसे अपने परिवार के बारे में ख़याल आया कि वो उसका घर पे

इंतजार कर रहे होंगे मगर इस हाल में वो नज़ाने कैसे उनके सामने आ पाएगी....

फिर उसको अपने फोन का ध्यान आया और वो उसको आस पास ढूँढने लग गयी... उसके अपना फोन आस पास कहीं नहीं मिला....

वो ज़मीन पे बैठके रोने लगी मगर उसका दर्द उसकी चीख महसूस करने वाले कोई नहीं था...

अपने आँसुओ को पौछ्कर और एक लंबी साँस लेकर वो ज़मीन से उठी और वहाँ पड़े काँच के ग्लास को दीवार

पर तोड़ते हुए एक आखरी बारी साँस लेकर उसने अपने पेट उस टूटे हुए ग्लास से वार कर दिया...

फर्श पे गिरकर उसकी आँखें बंद होने लगी और वही उसकी मौत हो गई....

अगली सुबह नारायण स्कूल के रवाना होने लगा और उसके साथ साथ विजय भी इन्दोर के लिए निकल गया....

नारायण का कुच्छ स्कूल के बाहर काम था तो उसने पहले विजय को बस स्टॉप पे छोड़ना ठीक समझा और फिर अपना काम ख़तम करके स्कूल जाना... नारायण ने घर के दरवाज़े पे ताला लगा दिया और दोनो गाड़ी में बैठके चले गये.....

ललिता अभी भी बिस्तर पे पड़ी सो रही थी... गर्मी के कारण उसका बदन खुला बिना किसी चादर से ढका हुआ था....

बिस्तर पे पेट के बल लेटी हुई अपनी टाँगें चौड़ी करी हुई और हाथ एक उल्टे हाथ की तरफ था और एक सीधे हाथ

की तरफ जा रहा था.... उसकी सफेद रंग की घुटनो से लंबी स्कर्ट उसके घुटने के उपर हुई पड़ी थी और

उसके उपर एक पतली हल्की गुलाबी रंग का टॉप थोड़ा उपर हुआ वह उसकी कमर की नुमाइश कर रहा था....

उसका चेहरा उसके खूबसूरत काले बालो से ढका हुआ था... अचानक से उसकी गहरी नींद टूट जाती है और

अब वो बिल्कुल सीधी बिस्तर पे लेट जाती है.... उसके टॉप भी थोड़ी कमर दिखता हुआ मगर बिककूल सीधे उसके घुटनो

को छुपा रही है..... कुच्छ मिनट बाद वो फिर से हिलती है और फिर से पहले की तरह बिस्तर पे लेट जाती है बस

इस बारी उसका उल्टा हाथ उसके सिर को ढक रहा है.....

अपनी आँखें धीरे से हल्की सी खोलकर वो देखती है के उसके बिस्तर से चुपका हुआ ज़मीन पर बैठा हुआ एक

आदमी है जोकि कोई और नहीं उसी का मामा है.... विजय उपर से बिल्कुल नंगा अपनी चौड़ी छाती और उसपर ढेर

सारे बाल दिखाता हुआ बिना किसी डर के अपनी भांजी के बिस्तर के पास बैठा हुआ है....

मामू की हिम्मत देख कर ललिता को पता चल गया था कि उसकी बहन अब तक घर नहीं आई है और उसके पापा घर

से चले गये है जिसका मतलब सिर्फ़ उन दोनो के अलावा घर पे कोई नहीं है.... उसके अगले ही पल ललिता को उसके

मामा का हाथ उसकी टाँग पे महसूस होता है... वो हाथ आहिस्ते आहिस्ते उसकी टाँग पे हिल रहा है और ललिता

बस उसके उपर जाने का इंतजार कर रही है.... कुच्छ सेकेंड बाद वो हाथ उपर बढ़ता है और

ललिता के घुटनो को छूता है... विजय का चेहरा ललिता को उसका हाल दर्शा रहा है... कभी उसके चेहरे पे

मुस्कान च्छा जाती तो कभी गंभीरता मगर वो रुकने का नाम नहीं ले रहा है और उसके साथ ही ललिता बिल्कुल एक

पुतले की तरह बिस्तर पे लेटी हुई है...

धीरे धीरे ललिता उस हाथ को अपनी सफेद स्कर्ट के अंदर घुसता हुआ पाती है और उसकी उल्टी जाँघ

की तरफ बढ़ जाता है..... विजय का हाथ ललिता के घुटनो के पीछे वाले हिस्से को महसूस करता है

जिसपे गर्मी के कारण पसीना होता है....अपने मुँह में भरे पानी को निगलते हुए वो ललिता की जानगञ को छूता

है जोकि मास से फूली हुई है... उसका इतना मन कर रहा है कि वो किसी तरह उसकी जाँघ को अपने हाथ में जाकड़

ले मगर वो ज़रा सी भी बेवकूफी नहीं दिखाना चाहता...

मगर ललिता उससे कयि कदम आगे निकली और एक ही पल में वो सीधी होके लेट गयी और विजय का हाल बुरा हो

गया क्यूंकी उसका हाथ अब ललिता की दोनो जाँघो के बीच में फसा हुआ था... ललिता ने भी अपने

टाँगें जोड़ रखी थी मज़ा लेने के लिए... ललिता की जाँघो की गरमाहट से विजय के हाथ में पसीने आने

लगे थे.... बड़ी सावधानी से वो चढ़ के बिस्तर पे बैठ गया और अपना उल्टा हाथ ललिता के स्तनो की तरफ ले गया...

उसके उल्टे स्तन को छुते ही उसकी उंगलिया कापने लगी... मगर हिम्मत दिखाकर वो अपनी उंगलिया स्तन पे चलाने लगा और

उसे यकीन हो गया कि उसकी भांजी ने अंदर कुच्छ नहीं पहेन रखा था.... उसकी शांत पड़ी चूची को

भी उसने महसूस कर लिया और अपनी उंगली से वो उसे जगाने लगा.... विजय से अब और बर्दाश्त नहीं हो रहा था...

उसने अपनी पॅंट की ज़िप खोलके अपना काला लंड बाहर निकाला और अपनी सोई हुई भांजी के हाथ पे हिलाने लगा....

हाथ को छुते ही विजय का लंड जागने लगा.... उधर ललिता की चड्डी उसकी गीली चूत की वजह से नम हो रही थी...

अब उसने इस पूरे मौहौल को ही बदल दिया अपनी आँखें खोलकर.... इससे पहले ललिता कुच्छ बोलती उसके मामा

ने अपने उल्टे हाथ से उसका मुँह ढक दिया और उसे गुस्से से देखते हुए बोला

" देख अगर तू चाहती है कि तेरा बलात्कार ना हो तो चुपचाप मेरा कहना मान ले क्यूंकी मुझे तेरा बलात्कार करने में

कोई दिक्कत नहीं होगी बट तेरी तो मैं जान ही लेलुँगा.....

क्रमशः…………………..