Maa ka dulara -माँ का दुलारा compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit seccaraholic.website
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Maa ka dulara -माँ का दुलारा

Unread post by rajaarkey » 14 Dec 2014 10:25

"बहुत अच्छा कर रहा है रे मेरे लाल, और कर ना, खूब देर कर" मोम की बुर मैंने मन भर कर चॅटी, पूरी जीभ निकालकर उपर से नीचे तक . बीच बीच मे उसके क्लिट को चाटता और फिर उसके रस को चूसने लगता. बीच मे एक दो बार उसकी बुर मे अपनी जीभ डाल कर भी चोदा. मोम की बुर का कसैला खारा रस मेरे होशोहवास उड़ा रहा था. मैं बार बार सोचता

"यही है वह प्यारी गुफा जिससे मैं निकाला था" दस मिनिट मे मोम झाड़. गयी. मेरे मुँह मे उसने ऐसी रस की धार छोड़ी कि मज़ा आ गया. जब मैं उसकी चूत और जांघे अपनी जीभ से पूरी सॉफ करके उठा तो उसने मुझे अपनेसे चिपटा लिया. वह हांफ रही थी. फिर बोली

"अनिल, कैसा करता है बेटे, मुझे पागल कर देगा. तुझे अच्छा लगा बेटे? गंदा तो नही लगा?" मैंने कहा

"माँ, तुम्हारी चूत मे से तो अमृत निकलता है" मोम खुश हो गयी

"सच? या सिर्फ़ मेरा मन रखने को कह रहा है"

"सच माँ, अब मैं रोज कई बार ये रस पीने वाला हू. तुम ही देख लो कि मेरा क्या हाल है तुम्हारा शहद चाट कर" मोम ने टटोल कर मेरा लंड पकड़ा.

"अरे यह तो बेकाबू हो गया है. इस बेचारे का तो मैंने कुछ किया ही नही अनिल. चल तू उलटी ओर से आ जा. मेरा मन नही भरा अभी. तू मेरा रस पी, मैं इस मस्त बदमाश की मलाई निकालती हू. कल से तरस रही हू." मैं मा के पैरों की ओर मुँह करके लेट गया. मोम ने टांगे फैला दी कि मैं ठीक से उसे चाट सकूँ. मैं मों की जांघे पकड़कर उसकी बुर मे मुँह मारने लगा. मोम मेरे लंड से खेल रही थी. बार बार उसे चूमती, अपने गालों पर रगदती और कहती

"कितना जवान हो गया है रे तू, गन्ने जैसा रसीला है मेरे मुन्ने का मुन्ना, लगता है खा कर निगल जाउ" और मुँह मे पूरा भरकर चूसने लगी. मैं धक्के मारता हुआ मोम का मुँह चोदते हुए उसकी बुर चूसने लगा.

मोम बस मेरे लंड से खेलती रही, उसे तरह तरह से चुसती रही, उसपर अपनी जीभ रगड़ कर मुझे सताती रही. आख़िर जब वह दो बार झाड़. चुकी तब मोम ने मेरे लंड को ज़ोर से गन्ने की तरह चूस कर मुझे भी झाड़ा दिया. मुझे लगा था कि वह शायद मेरा लंड मुँह से निकाल दे पर उसने मेरे वीर्य की आखरी बूँद निचोड़. कर ही दम लिया.

मैं मोम से चिपेट कर लेट गया. वह कुछ बोली नही पर उसके चेहरे के भाव से सॉफ था कि वह बहुत खुश है. मुझे फिर झपकी लग गयी और शाम को ही खुली जब मोम ने मुझे हिलाकर जगाया. वह साज धज कर तैयार थी.

"चल उठ, बाहर नही जाना है क्या घूमने?" मैं अंगड़ाई लेकर बोला.

"माँ, बाहर जाकर क्या करेंगे? यही घर मे रहो ना, मेरा मन नही भरा अब तक" मोम बोली

"अरे कुछ तो सब्र कर. कल से लगा हुआ है. चल अब बाहर" उसने आज एक हल्की नीली साड़ी और मैचिंग हाफ़ स्लिव ब्लओज़ पहना था. बालों को जुड़े मे बाँध लिया था. बहुत खूबसूरत लग रही थी.

2

मैं तैयार हुआ. बाहर आया तो मोम सोफे पर बैठी पैर क्रास करके हिलाते हुए मेरा इंतजार कर रही थी. उसकी बाथरुम स्लीपर उसकी उंगलियों से लटक कर हिल रही थी. यहा देखकर मुझसे रहा नही गया. मों के पास मैं नीचे बैठ गया और उसका पैर हाथ मे भर लिया. फिर चूमने लगा. पैरों के साथ साथ मैंने उसकी चप्पल के भी चुममे ले लिए. उसके दोनों पाव मैंने छाती से लगा लिए.

"अरे यहा क्या कर रहे हो बेटे? छी, मैली है मेरी चप्पल, दो तीन दिन से धोयि भी नहीं." मुझे हटाने की कोशिश करते हुए वह बोली.

"करने दो माँ, अच्छा लगता है." कहकर मैं उसके पैर और चप्पल को चूमता ही रहा.

"चल दूर हट, कैसा पागल है रे तू, करना ही है तो बाद मे करना, ऐसी गंदी चप्पल के साथ नहीं" मोम ने मुझे खींच कर अलग कर ही दिया. वह मेरी ओर अजीब तरह से देख रही थी, जैसे उसे समझ मे ना आ रहा हो कि उसके इस आशिक बेटे के पागलपन का कहाँ ख़ात्मा होगा. वह बाहर जाने के सैंडल पहनने को उठाने लगी तो मैंने पूछा

"माँ, मैं पहना दूं?" वह मेरी ओर देखती रही फिर मुस्काराकर हाँ कर दी. मैं भाग कर उसकी काली हाई हिल सैंडल उठा लाया. मोम की स्लीपर निकालकर मैंने बड़े प्यार से उसे वो सैंडल पहनाए. मोम ने मुझे बाँहों मे भरकर चूमकर कहा

क्रमशः.................

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Maa ka dulara -माँ का दुलारा

Unread post by rajaarkey » 14 Dec 2014 10:26

माँ का दुलारा paart--5

gataank se aage...............

"are tu jaag gayaa! mai tujhe jagaana nahi chaahati thi par kya karum bete, subaha jagi to tera lund itana kas kar khad.a tha ki mujhase raha nahi gaya." maimne mom ko baamhom me bhara aur niche se hi dhakke maarane laga. mom palat kar mujhe upar lene ki koshish karane lagi to maimne kaha

"mami, aise hi chod na mujh par chadh. kar, bahut maja a raha hai" mom mujhapar chadh.e chadh.e ab jor se mujhe chodane lagi. mujhe chumane ke liye use niche jhukana pad. raha tha. usake latakate stan meri chaati par apani ghumdiyaam chubho rahe the. maimne mom ko paas khimchakar usaka nipal mumha me le liya aur halke halke chabaate hue chusane laga.

mom ne man bhar kar mujhe choda aur jhad. kar last mujhapar pad.i rahi. mera jor se khad.a lund ab bhi pyaasa tha isaliye maimne ab use niche patakakar usapar chadh.akar chod daala aur jhad. kar hi ruka.

trupt hokar mom uthi aur gaaun pahanakar ghar ka kaama karane ki taiyaari karane lagi. mujhe boli ki soya rahum, koi jaldi nahi hai. mai fir so gaya. nimd khuli to das baj gaye the.

us subaha ko sab kuch badala badala lag raha tha. aisa lagata tha ki swarg jamin par utar aaya hai. mom bhi bahut khush thi. baar baar mujhe chuma leti. wah naha chuki thi. mai naha kar waapas aaya to mere liye meri pasamd ki dishes bana rahi thi. pahale usane mujhe glaas bhar kar badaama dala dudh diya. maimne use dekha to thod.i sharama gayi

"ab tujhe roj do glaas dudh pina chaahiye bete." maimne kaha

"mom mai to chaar glaas pi lum agar tuma apana dudh pilaao." aur gaaun ke upar se hi usake stanom ko chumane laga.

"chal badamaash, bachapan me piya wah kaafi nahi tha kyaa!" mom ne kaha. mai usase lipat gaya. mujhe usase dur raha hi nahi ja raha thaa, ek diwaanaapan sa sawaar ho gaya tha mujhapar.

"abhi nahi bete, din me dher se kaama karane haim. koi kabhi bhi a sakata hai. abhi kaama waali baai aati hogi. ab laad. dulaar raat ko. aur jara sabra kar, tu aadami hai ki ghod.aa, itani baar karake bhi tera man nahi bharaa" mom ne mujhe dur dhakelakar kaha.

"dopahar ko maam?" maimne bad.i aasha se pucha. mom ne sir halaakar mana kiya. hams rahi thi jaise mujhe chidh.a rahi ho. fir bhi mai mom ke piche piche duma hilaata ghumata raha. baar baar usase piche se chipak jaata. kal usake nitambom ko dekha tha par man bhar kar unhe chu nahi paaya tha. isaliye piche se chipatakar unapar mai apana khad.a lund ragad.ata aur mom ko piche se baamhom me bharakar usaki chuchiyaam dabaane lagata. wah baar baar mujhe jhid.akaarati par mai fir aakar chipat jaata.

use achcha lag raha tha par din me yaha karate hue shaayad wah wah sakucha rahi thi. amt me mere kaan pakad.akar usane mujhe apane kamare me bamd kar diya.

dopahar ko khaana khaane ke baad hamane kuch der tivi dekha. mujhe nimd a rahi thi isaliye mai mom ki god me sir rakhakar so gaya. bahut saalom ke baad mai yaha kar raha tha. mom bhi pyaar se mere baalom me umgaliyaam chala rahi thi.

par mera lund mujhe chup rahane de tab na. mom ke badan se aati khushabu ne mujhe uttejit kar diya. maimne palat kar gaaun ke upar se hi apani mumha mom ki jaamghom ke bich daba diya. mom ki sugamdh mujhe mast kar rahi the. jarur usaki bur ki khushabu thi. mom bhi to uttejit thi. mai apana sir aur daba kar mom ki god me ragad.ane laga. mom ko gudagudi hui to wah hamsane lagi.

"chod. anil, maimne kaha na abhi nahim, kaisa utaawala lad.aka hai" bel baji to mom ne mujhe jabaradasti alag kiya. aamkhe dikhaakar boli

"ab ja aur so ja. shaama ko ghumane jaayemge" mai kamare me gaya par soya nahim. lund khad.a tha. mom ka imtajaar karata raha. par lund ko haath bhi nahi lagaaya. ab muththa maarana paap tha mere liye, meri pyaari mom jo thi.

baai jaane ke baad aadhe ghamte baad mom aai. meri haalat dekhakar mujhe daamtane lagi. par yaha jhuth muth ka daamtana tha. usaki bhi haalat wahi thi jo meri thi. par wah taiyaar nahi ho rahi thi.

"abhi nahi anil, koi a jaayega to? kapad.e pahanana mushkil ho jaayega." maimne kaha

"mami, kapad.e mat utaaro, bas paimti utaar do. mai tumhaari chut chusumga. kal se taras raha hum." mom ne kaha

"tu maanega nahim, chal jaldi se kar le jo karana ho" aur gaaun upar karake apani paimti utaar di. utaarate samay usaki gori chikane bur mujhe dikhi. mom fir palamg par mere saath let gayi. maimne uth kar mom ka gaaun upar kiya aur usaki jaamghe chumane laga. fir usaki taamge alag kara ke paas se usake bur ko dekhane laga. mera dil jor se dhad.ak raha thaa, apani janani ki chut mai pahali baar thik se dekh raha tha.

mom ki bur se paani bahana shuru ho gaya tha. jaamghe bhi gili thim. mujhe itani der se tarasa rahi thi par khud bhi masti me thi. maimne mom ki bur ke papote alag kiye aur amdar ki laal risati myaan ko dekha. meri umgali gili ho gayi thi. maimne use chakha. us chipachipe ras ne mujh par aisa jaadu kiya ki mai mom ki taamgom ke bich let kar usaki bur chaatane laga. mom sisakane lagi

"bahut achcha lagata hai bete, aur chaat naa, jara upar, daane ke paas" yaane klit par jibh chalaane ko kaha rahi thi. mujhe klit dikha nahi to maimne fir mom ki bur umgaliyom se kholi. upar do maamsal papotom ke bich chipa jara sa makai ka daana mujhe dikha. usapar mai jibh chalaane laga. ekadama hire jaisa kad.a daana tha. mom ab pair femkane lagi.

"bahut achcha kar raha hai re mere laal, aur kar naa, khub der kar" mom ki bur maimne man bhar kar chaati, puri jibh nikaalakar upar se niche tak . bich bich me usake klit ko chaatata aur fir usake ras ko chusane lagata. bich me ek do baar usaki bur me apani jibh daal kar bhi choda. mom ki bur ka kasaila khaara ras mere hoshohawaas ud.a raha tha. mai baar baar sochata

"yahi hai wah pyaari gufa jisase mai nikala thaa" das minit me mom jhad. gayi. mere mumha me usane aisi ras ki dhaar chod.i ki maja a gaya. jab mai usaki chut aur jaamghe apani jibh se puri saaf karake utha to usane mujhe apanese chipata liya. wah haamf rahi thi. fir boli

"anil, kaisa karata hai bete, mujhe paagal kar dega. tujhe achcha laga bete? gamda to nahi lagaa?" maimne kaha

"maam, tumhaari chut me se to amrut nikalata hai" mom khush ho gayi

"sach? ya sirf mera man rakhane ko kaha raha hai"

"sach maam, ab mai roj kai baar ye ras pine waala hum. tuma hi dekh lo ki mera kya haal hai tumhaara shahad chaat kar" mom ne tatol kar mera lund pakad.a.

"are yaha to bekaabu ho gaya hai. is bechaare ka to maimne kuch kiya hi nahi anil. chal tu ulati or se a ja. mera man nahi bhara abhi. tu mera ras pi, mai isa mast badamaash ki malaai nikaalati hum. kal se taras rahi hum." mai ma ke pairom ki or mumha karake let gaya. mom ne taamge faila di ki mai thik se use chaat sakum. mai mom ki jaamghe pakad.akar usaki bur me mumha maarane laga. mom an mere lund se khel rahi thi. baar baar use chumati, apane gaalom par ragad.ati aur kahati

"kitana jawaan ho gaya hai re tu, ganne jaisa rasila hai mere munne ka munnaa, lagata hai kha kar nigal jaaum" aur mumha me pura bharakar chusane lagi. mai dhakke maarata hua mom ka mumha chodate hue usaki bur chusane laga.

mom bas mere lund se khelati rahi, use taraha taraha se chusati rahi, usapar apani jibh ragad.akar mujhe sataati rahi. aakhir jab wah do baar jhad. chuki tab mom ne mere lund ko jor se ganne ki taraha chus kar mujhe bhi jhad.a diya. mujhe laga tha ki wah shaayad mera lund mumha se nikaal de par usane mere virya ki aakhari bumd nichod. kar hi dama liya.

mai mom se chipat kar let gaya. wah kuch boli nahi par usake chehare ke bhaav se saaf tha ki wah bahut khush hai. mujhe fir jhapaki lag gayi aur shaama ko hi khuli jab mom ne mujhe hilaakar jagaaya. wah saj dhaj kar taiyaar thi.

"chal uth, baahar nahi jaana hai kya ghumane?" mai amgad.aai lekar bola.

"maam, baahar jaakar kya karemge? yahi ghar me raho naa, mera man nahi bhara ab tak" mom boli

"are kuch to sabra kar. kal se laga hua hai. chal ab baahar" usane aaj ek halki nili saad.i aur maichimg haaf sliv blaauz pahana tha. baalom ko jud.e me bamdh liya tha. bahut khubasurat lag rahi thi.

2

mai taiyaar hua. baahar aaya to mom sofe par baithi pair kraa~ms karake hilaate hue mera imtajaar kar rahi thi. usaki baatharuma slipar usaki umgaliyom se latak kar hil rahi thi. yaha dekhakar mujhase raha nahi gaya. mom ke paas mai niche baith gaya aur usaka pair haath me bhar liya. fir chumane laga. pairom ke saath saath maimne usaki chappal ke bhi chumme le liye. usake donom paav maimne chaati se laga liye.

"are yaha kya kar rahe ho bete? chi, maili hai meri chappal, do tin din se dhoyi bhi nahim." mujhe hataane ki koshish karate hue wah boli.

"karane do maam, achcha lagata hai." kahakar mai usake pair aur chappal ko chumata hi raha.

"chal dur hat, kaisa paagal hai re tu, karana hi hai to baad me karanaa, aisi gamdi chappal ke saath nahim" mom ne mujhe khimch kar alag kar hi diya. wah meri or ajib taraha se dekh rahi thi, jaise use samajh me na a raha ho ki usake is aashik bete ka paagalapan kahaam khatma hoga. wah baahar jaane ke saimdal pahanane ko uthane lagi to maimne pucha

"maam, mai pahana dum?" wah meri or dekhati rahi fir muskaraakar haam kar di. mai bhaag kar usaki kaali haai hil saimdal utha laaya. mom ki slipar nikaalakar maimne bad.e pyaar se use we saimdal pahanaaye. mom ne mujhe baamhom me bharakar chumakar kaha


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Maa ka dulara -माँ का दुलारा

Unread post by rajaarkey » 15 Dec 2014 03:55

माँ का दुलारा पार्ट--6

सावधान........... ये कहानी समाज के नियमो के खिलाफ है क्योंकि हमारा समाज मा बेटे और भाई बहन के रिश्ते को सबसे पवित्र रिश्ता मानता है अतः जिन भाइयो को इन रिश्तो की कहानियाँ पढ़ने से अरुचि होती हो वह ये कहानी ना पढ़े क्योंकि ये कहानी एक मा बेटे के सेक्स की कहानी है

गतान्क से आगे...............

"तू सचमुच पागल है मेरी हर चीज़ के लिए. मुझे ही कुछ करना पड़ेगा" पर यह नही बोली कि क्या करेगी. हम घूमने गये. एक जगह जल्दी ही डिनर किया. लौटते हुए मलाड की बड़े शापिंग माल मे घूमने चले गये. मोम ने शायद कुछ निश्चय कर लिया था. सीधे मुझे लेकर एक फुटवियर स्टोर मे गयी.

वहाँ ढेर सी लेडीज़ चप्पले और सैंडले थीं. मोम ने मेरे कान मे धीरे से कहा

"पसंद कर ले अनिल बेटे, कौन सी लूँ? एक सैंडल लूँगी और एक स्लीपर" मैं उसकी ओर देखने लगा. मुस्काराकर वह फिर धीरे से बोली

"तेरा दीवानापन नही जाएगा. सोचती हू कि एक ख़ास तेरे लिए ले लूँ, तेरे खेलने के लिए. उन्हे सिर्फ़ बेडरूम मे पहनूँगी. कम से कम साफ तो रहेंगी, नही तो मेरी चप्पालों को चाटने के चक्कर मे तू बीमार पड़. जाएगा." मैं बहुत खुश हुआ. आँखों आँखों मे ममी को थैंक यू कहा. मेरी फेटिश की गहराई को समझ कर वह मुझे खुश करने के लिए यह कर रही थी याने उसने मेरी इस चाहत को ऐईक्सेपट कर लिया था.

मैंने खूब ढूँढ कर एक नाज़ुक सिल्वर कलर की हाई हिल सैंडल और हल्के क्रिम कलर की पतले पत्तों वाली एकदम पतली रबर की स्लीपर पसंद की. मोम ने पहन कर देखे. उसके पाँव मे वी बहुत फब रहे थे. दोनों महँगी थीं, मिलाकर हज़ार रुपये हो गये. मैं वापस रखने वाला था पर मोम ने मेरा हाथ पकड़. लिया.

"तुझे सुख मिलता है बेटे तो कोई कीमत मेरे लिए ज़्यादा नही है" वापस घर आने तक मेरी ऐसीहालत हो गयी थी. लंड ऐसा खड़ा था कि चलना मुश्किल हो रहा था. किसी तरह उसे पैंट की साइड मे छिपा कर मैं चल रहा था. एक तो मेरे हाथ मे वह चप्पालों वाला पैकेट, दूसरे मोम के ब्लओज़ की पसीने से भीगी कांख . मोम मेरी हालत देख कर बस मुस्करा रही थी.

घर आते ही जैसे ही मोम ने दरवाजा अंदर से बंद किया, मैं उससे लिपट गया और अपना चेहरा उसकी कांख मे छुपा कर ब्लओज़ को चाटने लगा. मोम के खारे पसीने के स्वाद ने मुझपर किसी अफ़रोदिज़ियाक जैसा काम किया. मोम सैंडल उतारते हुए मुझे कहती ही रह गयी कि अरे रुक, इतना दीवाना ना हो, अभी रात पड़ी है, पर मैं कहा मानने वाला था. वैसा ही मोम को धकेलकर सीधा बेडरूमा मे ले गया. उसे पलंग पर बिठा कर मैं उसके सामने बैठ गया और उसकी साड़ी उपर कर दी.

मों हँसते हुए विरोध कर रही थी, पर नाम मात्र क़ा, सिर्फ़ दिखाने के लिए. साड़ी उठाकर मैंने खींचकर उसकी पैंटी उतारी और उसकी जांघे फैलाकर उनमे मुँहा डालकर उसकी बुर चूसने मे लग गया. बुर चू रही थी, याने मोम जो मुझसे इतनी इतराकर सब्र करने को कह रही थी, खुद भी अच्छी ख़ासी गरमा हो गयी थी.

कुछ देर बाद मैं उठा और पैकेट खोल कर सैंडल निकाले. मोम अब झाड़. कर पलंग पर लेट गयी थी और लंबी लंबी साँसे ले रही थी. मैंने मोम को सैंडल पहनाए और उसके पैरों को चूमा. मोम उस हालत मे बहुत प्यारी लग रही थी, पूरे कपड़े और सैंडल पहने थी पर साड़ी कमर के उपर थी और उसकी मतवाली जांघे और चूत नंगी थी.

मुझे अपने कपड़े निकालने का धीरज नही था, मैंने अपना लंड पैंट की ज़िप से निकाला और मोम की बुर मे घुसेड. दिया. फिर उसपर चढ़. कर उसे चोद डाला. चोदते चोदते मैंने मोम के हाथ उपर करके उसकी कांखो को ब्लओज़ के उपर से ही चूस डाला. पाँच मिनिट मे चुदाई ख़तम हो गयी. जब मैं मोम के उपर पड़ा पड़ा सुस्ता रहा था तो मों ने मीठा उलाहना दिया

"हो गया तेरा? अब रात भर क्या करेगा? मैं कह रही थी तुझसे, अगर सच का मज़ा लेना हो तो सब्र करना सीख . ये क्वीकी बहुत मीठी थी बेटे पर मैं तुझसे बहुत देर प्यार करना चाहती हू" मैंने मोम की छाती मे मुँहा दबा कर कहा

"ये तो शुरूवात है माँ, पूरी रात पड़ी है" मों मेरी पीठ पर चपत मार कर बोली

"बड़ा आया पूरी रात वाला. कल से अब तक पाँच बार झाड़. चुका है, थक गया होगा अब तक! सो जा चुप चाप!"

"नही माँ, मैं सच कहा रहा हू. आज मुझे मत रोको प्लीज़."

"ठीक है, तू पड़ा रह, मैं काफ़ी बनाकर लाती हू" मोम ने उठकर साड़ी निकालना शुरू कर दी. मुझे लगा कि वह गाउन पहनेगी. पर उसने बस साड़ी, ब्लओज़ और पेटीकोत निकाले. पैंटी फिर पहन ली. उसके कमरे से जाने के पहले मैंने उसकी कांख मे मुँहा डाल कर उसका पसीना चाट लिया. पहले वह नाराज़ हुई और बोली

"हट क्या कर रहा है" कहने लगी पर फिर चुपचाप हाथ उठा कर खड़ी हो गयी. उसे गुदगुदी हो रही थी इसलिए वह हँस कर बार बार मुझे रोक देती. पर मैंने पूरा पसीना चाट कर ही उसे छोड़ा. वह अपने उतारे कपड़े बाथरुम मे ले जाने लगी तो मैंने उसके हाथ से ब्लओज़ छीन लिया.

"ये छोड़. दो मोम मेरे लिए. मीठी काफ़ी के पहले कुछ खारा मसालेदार स्वाद तो ले लूँ" मेरे मुँहा पर ब्लओज़ फैंक कर मोम झूठ मूठ का गुस्सा दिखाते हुए चली गयी.

"ना जाने तेरा पागलपन कब ख़तम होगा" मैं मोम का ब्लओज़ लेकर पलंग पर लेट गया और उसकी भीगी कांखे मुँहा मे लेकर चबाने और चूसने लगा.

इसी अर्धनग्न अवस्था मे जाकर वह काफ़ी बना लाई. मोम के उस रूप का मुझ पर प्रभाव होना ही था. अपनी सैंडले उसने अब भी पहन रखी थी. ब्रा और पैंटी मे उँची एडी की सैंडल पहनकर उसे इधर उधर चलते देखना ऐसा लगता रहा था जैसे किसी लिंगरी कंपनी की फैशन परेड हो रही हो. आधे घंटे के अंदर मैं फिर अपने काम मे जुट गया.

उस रात मैंने मोम को दो बार और चोदा. पहली बार पीछे से उसे घोड़ी बनाकर. सामने अलमारी के आईने मे मोम के लटककर डोलाते मम्मे और उसके चेहरे पर के कामना से भरे भाव दिख रहे थे. उसे बहुत मज़ा आ रहा था और बीच मे जब चुदासि असहनिय हो जाती तो उसकी मीठी छटपटाहट देखते ही बनती थी. उन लटकते मम्मों को मैं बीच बीच मे आगे झुक कर दबा देता.

दूसरी बार मैं नीचे लेटा रहा और मोम ने मुझपर चढ़कर मुझे चोदा क्योंकि मैं थक गया था पर लंड खड़ा था. आखरी चुदाई सबसे मीठी थी क्योंकि मेरा लंड काफ़ी देर खड़ा रहा और मोम ने भी मज़ा ले लेकर रुक रुक कर मुझे चोदा. बिलकुल चेहरे के सामने उसके उछलते स्तन मेरी मदहोशी को और गहरा कर देते. बीच मे ही मैं मोम की चुचियाँ दबाने लगता या उसे नीचे खींचकर उसकी घुंडियाँ चूसने लगता.

हम सोए तो लास्ट हो गये थे. सोते समय मों ने मुझे बाँहों मे भरकर पूछा

"तेरे दिमाग़ मे ये सब आसन कहाँ से आए बेटे? ऐसा अनुभवी लगता है जैसे कोई मंजा खिलाड़ी हो" मैंने मोम को कहा कि मोम मैने आपको बताया तो था कि राज शर्मा के कामुक-कहानियाँडॉटब्लॉगस्पॉटडॉटकॉम पर ये सब कुछ देखा था उसमे संभोग कैसे किया जाता है और सेक्स की सारी जानकारी है उसी मे मैने ये आसान देखे थे

"और माँ, सपने मे ये सब मैं तेरे साथ कितनी ही बार कर चुका हू, इसलिए आज पहली बार करते हुए भी कोई तकलीफ़ नही हुई मुझे" मेरी गोटियाँ अब दुख रही थीं. लंड भी एकदमा मुरझा गया था. मोम ने मुझे प्यार से डाँटते हुए कहा

"अब कल कुछ नहीं. तेरा कल का भी सारा कोटा पूरा हो गया. बीमार पड़ना है क्या? अब दो तीन दिन के लिए सब बंद." मैंने मोम से खूब मिन्नटे कीं, बोला कि जैसा वह कहेगी मैं करूँगा, बस कम से कम एक बार कल मुझे चोदने दे. पहले वह नही मान रही थी, मेरी हज़ार प्रार्थना के बाद मान गयी "ठीक है, कल रात को. पर दिन भर अब अच्छे बच्चे जैसे रहना. मुझे भी घर के बहुत काम करने हैं."

दूसरे दिन रविवार था. हम आरामा से उठे. मोम ने घर का काम निकाला. मुझे भी लगा दिया. मेरा कमरा और मोम के बेडरूम को जमाया, पुराना सामान निकालकर फेका. उसी समय मेरी अलमारी की तह मे रखी कुछ मेगेज़ीन उसे मिलीं. वह पन्ने पलटने लगी तो चहरा लाल हो गया. हर तरह के तस्वीरे उसमे थीं. स्त्री पुरुष, स्त्री स्त्री, पुरुष पुरुष, ग्रुप, बड़ी उम्र की औरते और जवान लड़के.

"छी कितनी गंदी किताबे हैं. शरम नही आती तुझे" एक गुदा संभोग का चित्र देखते हुए उसने मुझे पूछा. उसकी साँसे तेज हो गयी थी उस चित्र को वह बहुत देर देखती रही. मैंने उसके गले मे बाँहे डाल कर कहा

"हाँ माँ, पर है बहुत मजेदार. है ना?" मोम ने उन्हे अपने कमरे की अलमारी मे रख दिया.

"अब से ये देखना बंद. तभी दोपहर को तरह तरह की हरकते करता रहता था" मोम उन्हे देख कर उत्तेजित हो गयी थी. पर उसीने मुझे कहा था कि आज मुहब्बत बंद है इसलिए आगे कुछ ना बोली. बस मुझे ज़ोर से चूमा लिया.

दोपहर को खाने के बाद मोम बाजार चली गयी. मुझे सुला कर गयी कि आराम कर. जब मैं शाम को उठा तो देखा कि मोम वापस आ गयी है और मेरे बाजू मे सो रही है. मैं उसे चिपटना चाहता था पर फिर सोचा वह भी थक गयी होगी. चुपचाप उठाकर उसकी पुरानी स्लीपरे बाथरूम ले गया. उन्हे खूब धोया और सुखाने को रख दीं. तभी मोम आ गयी. आश्चर्य से बोली

"अरे ये क्या कर रहा है? मैंने ली तो है नयी वाली तेरी पसंद की" मैंने कहा

"वो तो नयी है माँ, अभी उनमे तुम्हारे पैरों की खुशबू कहाँ लगी है! उन्हे बाद मे पहनना पहले इन्हे पहन कर घिसो तब मुझे मज़ा आएगा. तब तक के लिए मैंने ये सॉफ कर ली हैं"

"क्या करेगा इनका" मोम की बात पर मैंने कहा

"माँ, आज रात इन्हे पहनना ना प्लीज़, बहुत मज़ा आएगा" मोम ने चाय बनाई. मेरी बात से वह भी उत्तेजित हो गयी थी. उसकी आँखों से ही मुझे उसकी हालत का पता चल गया था. मेरा भी लंड खड़ा था. पर मोम से मैंने वादा किया था कि आज रात सिर्फ़ एक बार चोदुन्गा. एक बात भी मेरे दिमाग़ मे भर गयी थी, उसके लिए मोम की सहमति ज़रूरी थी.

उस दिन हम बाहर नही गये, घर मे ही आराम किया. शाम को मोम जब टी वी देख रही थी तो आख़िर मुझसे नही रहा गया. मैं जाकर उसके सामने नीचे बैठ गया और उसकी साड़ी उपर कर दी.

"अरे क्या कर रहा है? याद है ना मैंने क्या कहा था?" मों मेरे हाथ पकड़कर बोली.

"माँ, मैं सच मे अभी कुछ नही करूँगा. रात को ही करूँगा. पर तुम क्यों परेशान हो रही हो? मुझे बस अपनी बुर चूसा दो"

"चल हट, बड़ा आया बुर चूसने वाला. और उसके बाद क्या करेगा यह भी मालूमा है" मोम ने मेरे कान पकड़कर कहा.

"नही माँ, प्रामिस, बस तुम्हारी बुर चुसूँगा घंटे भर. मुझे महक आ रही है, मुझे मालूमा है कि तुम्हारी क्या हालत है. और कुछ नही करूँगा माँ, बिलकुल सच्ची. रात तक ना चोदने की प्रामिस तो मेरी है, तुमने ने झदाने की कोई प्रामिस थोड़े की है" मैंने अपने बचपन के अंदाज मे कहा. मोम निरुत्तर हो गयी, मेरा हाथ छोड़ कर बोली

क्रमशः.................