मेरा योंन शोषण

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit seccaraholic.website
User avatar
sexy
Platinum Member
Posts: 4069
Joined: 30 Jul 2015 14:09

Re: मेरा योंन शोषण

Unread post by sexy » 25 Aug 2015 04:24

नये माहोल में आ के एज नये खुल्लेपन का एहसास होने लगा था। विक्की और योगी से दोस्ती करके नई उमंगे परवान चड़ने लगी थी। सोना दीदी भी खूब बढ़ावा देती थी मुझे। एक दिन शाम को हम सारे छुप्पा छुपी खेल रहे थे। मैं विक्की के साथ एक दीवार के पीछे छुप गये। योगी सोना दीदी के साथ उनके घर के टॉयलेट में छुप गये जो बाहर बना हुआ था लॉन में। विक्की ने मुझे अपने सामने कर लिया और चुप रहने को कहा। तभी राजू जो हम सबको ढूंड रहा था वहां आया पर हम विक्की ने मोका देखते मेरा हाथ पकड़ा और योगी के टॉयलेट की और दौड़ पड़ा। मैं भी विक्की का साथ देती हुई वहां पोहंच गयी। विक्की ने योगी से दरवाजा खोलने को कहा और फिर हम दोनों भी अंदर घुस गये। अब जो हुआ उसके लिए मैं बिलकुल तयार नही थी।
विक्की मेरे पीछे खड़ा हो गया और योगी सोना दीदी के। फिर योगी ने अपने कूल्हे को सोना के नितम्बों पे रगड़ना शुरू कर दिया। मैं आंखें खोल के सोना को देख रही थी पर उसने मुझसे कहा ऐसा करने में बोहोत मज्जा आता हे। मैं कुछ समझ पाती उससे पहले विक्की ने अपने कूल्हे को मेरे नितंबो से लगा दिया। मेरी सिस्कारियां निकल गयी पर सोना ने मेरा हाथ थाम के मुझे चुप रहने का इशारा किया। बाहिर राजू हमें ढूंड रहा था और अंदर हम रासलीला मन रहे थे। विक्की ने अपना मोटा लम्बा लिंग मेरे नितंबो के बिच की दरार में फस्सा दिया था और अब हलके हलके धक्के दे के वोह मुझे आकाश की याद दिला रहा था। मेने घुटनों जितनी फ्रॉक पहनी थी और वोह भी अब विक्की ने हाथ से उठानी शुरू कर दी। मेरी गरम सांसें तेज़ी से चलने लगी और विक्की भी अब अपनी साँसों को मेरी गर्दन गले और पीठ पे छोड़ने लगा जिस से मेरी मस्ती दोगुनी होती गयी। सामने योगी ने सोना की स्कर्ट कमर तक उठा ली हुई थी और अपने कूल्हों को बड़ी तेज़ी से उसके नितंबो पे रगड़ रहा था। हम चारों की तेज़ सांसें उस छोटी सी जगह पे कोहराम मचा रही थी।

User avatar
sexy
Platinum Member
Posts: 4069
Joined: 30 Jul 2015 14:09

Re: मेरा योंन शोषण

Unread post by sexy » 25 Aug 2015 04:25

योगी ने सोना की पेंटी उतार दी थी और घुटनों तक खिसका दी थी। सोना की हालत बदहवासी से भरी हुई थी और वह योगी को उकसा रही थी । इधर विक्की बड़े ध्यान से मेरी हालत पतली करने मैं लगा हुआ था। मेरी फ्रॉक अब कमर तक उठ चुकी थी; मेरी पेंटी भी घुटनों तक खिस्सक गयी हुई थी और विक्की का लिंग भी बाहिर आ गया था। मेने अपने नग्न नितम्बों पर उसका गरम नंगा लिंग महसूस किया और बिजली के झटके से महसूस करते हुए विक्की के अगले कदम का इंतजार करने लगी। विक्की ने भी देर नहीं की और सीधे अपने लिंग को मेरी झांघो के बीच फस्सा दिया। मेरी उमंगें तरोताजा हो गयी और मैं हवस के खेल का खुल के मज्जा लेने लगी।
अब मेरी नज़र सोना पे पड़ी जो की घोड़ी की तरह झुकी हुई थी और तक़रीबन नंगी हो चुकी थी पूरी तरह। योगी ने अपने लिंग पे थूक लगा के सोना के नितंबो के बीच गुदा सुराख में ल फसा के तेज़ धक्का मारा । सोना की हलकी चीख निकली और फिर उसने अपने होंठो को दांतों तल्ले दबा दिया। उफ्फ्फ क्या नज़ारा था .... योगी का लिंग सोना के अंदर बाहर हो रहा था और सोना झुक्की हुई मज्जे ले ले के मरवा रही थी। मेरा मन किया की काश सोना की जगह मैं होती। तभी विक्की ने अपने लिंग पे थूक लगा दी और फिर मुझे झुकने को कहा। मैं भी बिना सोचे समझे झुक गयी और आने वाले तूफ़ान की तयारी करने लगी। फिर विक्की ने भी मेरी गुदा सुराख में थूक लगा के ऊँगली अन्दर घुस्सा दी। मेरी सांस उपर की उपर और नुचे की निचे रुक गयी। पर कुछ ही पलों बाद सब सामान्य हो गया और अब विक्की की ऊँगली पूरी तेज़ी से मेरी गांड में अंदर बाहिर होने लगी।
इसके बाद विक्की ने मेरी गांड में और थूक लगा के अपने लंड को लगा दिया। फिर मेरी पतली कमर को थाम के एक कर्ररा शॉट मारा। मेरी जोर से चीख निकल गयी और मैंने विक्की को धक्केल के पीछे हटा दिया। विक्की ने मुझसे पुछा क्या हुआ तोह मैं बोली की बोहोत दर्द हुआ। इस्पे विक्की ने सोना की और इशारा करके कहा की यह भी तो पूरा लंड ले रही हे। मैं घबरा गयी थी और गांड मरवाने का शोक मेरे दिमाग से उतर चुक्का था । विक्की ने भी मोके की नजाकत को समझते हुए मुझे छोड़ दिया। मैं उस टॉयलेट से बाहेर निकली और अपने घर चली गयी। पर सारी रात विक्की की अशलील हरकतें बार बार याद आती रही और सोना के कारनामे भी नींद उड़ाते रहे

User avatar
sexy
Platinum Member
Posts: 4069
Joined: 30 Jul 2015 14:09

Re: मेरा योंन शोषण

Unread post by sexy » 25 Aug 2015 04:58

उस रात मुझे नींद नही आई। सारी रात करवट बदल बदल क निकली। सुबह हुई तोह मैं स्कूल को तयार हो के चल दी। दोपहर लंच ब्रेक में विक्की मेरे पास आया और हस्स्ते हुए पुछा कल दर्द हुआ था क्या। मेने सर हिला के इशारे से हाँ कहा। वोह बोला शुरू में दर्द होता हे फिर बाद में सिर्फ मज्जा आयेगा जेसे सोनलप्रीत लेती हे। मैंने सर हिल के हाँ कहा और फिर पुछा कि सोना दीदी को भी पहली बार दर्द हुआ था। इस्पे विक्की हस के बोला की सोनल प्रीत की जिसने फर्स्ट टाइम ली होगी उसको पता होगा हम तोह उसके शिष्य हैं और उस्सी ने हमें यह सब सिखाया। मैं इस बात पे हस दी और विक्की भी मेरे साथ खूब हस्सा ।
फिर विक्की मुझे स्कूल कैन्टीन ले गया और चिप्स पेप्सी वगेरा मंगवा दी। मैं घर से सूखे ठन्डे फुल्के और गोबी की सब्जी लायी थी जो मुझे बिलकुल पसंद ना थी। विक्की भी यह बात भांप गया और उसने मुझसे आगे से लंच लाने से मना कर दिया। आज से मेरा लंच विक्की के साथ कैन्टीन में होगा। तभी वहां योगी और सोना भी आ गये। विक्की ने उठ के पहले योगी फिर सोना को हग किया ओर हम चारो बेठ गये। विक्की बोला चलो आज बंक मार के फिल्म देखने चलते हैं। मैंने मना किया तो विक्की ने कहा सोनल प्रीत और योगी तुम दोनों चलोगे क्या। वह तयार हो गये। फिर तीनो स्कूल के पिछले गेट पे गये और विक्की ने वहां खड़े दरबान को 50 रूपए दिए तोह उसने गेट खोल दिया। तभी सोना ने मुझे आने का इशारा किया। मेरी कुछ समज में आये उससे पहले विक्की मेरे पास आया और हाथ पकड़ के साथ चल पड़ा। मैं कोई विरोध नहीं कर पाई और हम चारो स्कूल से बाहर आ गये।

हम सब सिनेमा पोहंच गये और विक्की ने 4 टिकेट खरीदे। हम अंदर पोहंचे तोह फिल्म स्टार्ट हो गयी थी। इमरान हाश्मी और उदिता गोस्वामी की अक्सर में खूब गरमा गरम सीन थे और जब तक हम सीट पे बेठें तब तक इमरान ने उदिता को चूमना चाटना शुरू कर दिया था। मैं और सोना बीच में बेठे और योगी विक्की हमारे साइड पे। विक्की मेरी और था इसलिए मैं उसकी शरारतों के लिए मन ही मन तैयार थी।
और उसने भी समय बर्बाद नही किया, सीधे अपने हाथ को मेरी झांघ पे रख के हलके हलके मसलने दबाने लगा। मैं उस समय उतेजना से भर गयी और अपने सर को उसके कंधे पे टिक्का के उसको ग्रीन सिग्नल देदी। वोह बायें हाथ से झांघों को मसलने में लगा था और दायें हाथ को मेरे कंधो से होते हुए मेरे उरोजों को मसलने लगा। पहली बार मुझे अपने मम्मों पे किसी मर्द के स्पर्श का असर महसूस होने लगा । इतना मज़्ज़ा आता होगा मम्मे दबवाने में तो कब की शुरू हो गयी होती।
उधर योगी ने सोनल प्रीत की स्कर्ट के अंदर हाथ दाल के उसकी हालत खराब कर दी थी। साथ ही वोह उसके मम्मों को बारी बारी से निचोड़ रहा था। मैं उसकी हरकतों को देख रही थी की तभी योगी ने मेरी और देख के गन्दा इशारा किया, मैं नाक मरोड़ के उसके इशारे को अनदेखा कर दिया। तभी उसने सोनल की शर्ट के उपर वाले 2 बटन खोल के उसमे अपना हाथ घुसा दिया। मेरी तो आंखें फटी की फटी रह गयी पर सोनल प्रीत उसका पूरा साथ देती हुई मुस्कुराती हुई मम्मे पुटवाती रही।
यहाँ विक्की ने भी अपनी हरकत तेज़ करते हुए मेरी शर्ट के 2 बटन खोल दिए और हाथ अंदर दाल दिया। मेरी चीख निकल गयी पर उसने दुसरे हाथ से मेरा मुह दबा दिया। योगी सोना और विक्की तीनो मुझे घूर के देखने लग्गे, मैं भी शर्मिंदा महसूस करती हुई सोरी सोरी कहने लगी। सोनल प्रीत ने मुझे डांट लगाते हुए कहा की अब मैं बच्ची नही रह गयी हूँ। मैं भी शर्म से लाल हो गयी थी और उसको भरोसा देते हुए बोली की आगे से ऐसा नही होगा।